Blog Detail

Covid-19 Tracker Ask Question

preview image Emotions
by rajveer singh, May 25, 2018, 12:57:14 PM | 4 minutes |

केदारनाथ को क्यों कहते हैं ‘जागृत महादेव’ ? Kedarnath Jyotirlinga Of Lord Shiva



बहुत समय पहले की बात है जब हमारे देश में बस, ट्रेन की अच्छी सुविधा उपलब्ध नहीं थी| अगर किसी को सफ़र करना होता था तो धनवान लोग बैलगाड़ी, घोड़े का सहारा लेते थे लेकिन गरीब लोगों के लिए पैदल यात्रा करना ही एक मात्र उपाय था| इसी समय एक निर्धन शिव भक्त ने भगवान् केदारनाथ ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने का प्रण किया और पैदल यात्रा आरम्भ कर दी| रस्ते में लोगों से पूंछ-पूंछ कर केदारनाथ धाम की ओर बढ़ने लगा| मन में शिव दर्शन की इच्छा लिए वह हमेशा शिव का ही स्मरण करता रहा| उसके घर से केदारनाथ धाम काफी दूर था| सफ़र करते करते 2 महीने बीत गए| जब वह केदारनाथ पहुंचा तो वहां बर्फ पड़ रही थी और ऐसा लग रहा था की मंदिर बंद है और वहां कोई भी नहीं| आपको यह बता दूँ की केदारनाथ धाम के पट 6 महीने के लिए खुलते हैं और 6 महीने के लिए बंद हो जाते हैं| जब केदारनाथ धाम में बर्फ पड़ने लगती है तो मदिर के पट बंद कर दी जाते हैं| वह निर्धन शिव भक्त जब केदारनाथ धाम पहुंचा तो वहां बर्फ पड़ने लगी थी और ठण्ड के मौसम की बस शुरुआत ही हुई थी| उसने देखा की मंदिर के पुजारी जी मंदिर के पट बंद करके अपने घर जा रहे थे| उसने तुरंत उस पुजारी जी से आग्रह किआ की उसे एक बार केदारनाथ महादेव के दर्शन करने दिया जाए| पुजारी जी ने उससे कहा की बीटा अब मंदिर के पट तो 6 महीने बाद ही खुलेंगे तुम 6 महीने बाद आना| ऐसा सुन कर शिव भक्त के आँखों में आंसू आ गए और मन ही मन वह बहुत परेशान हो गया| उसने फिर से आग्रह किआ और पुजारी जी के पैर पकड़ लिए और गिडगिडाते हुए बोला “मैं बहुत दूर से आया हूँ 2 महीने पैदल चलकर और जगह-जगह रुक कर| मुझे महादेव के दर्शन करने दे दो|” पुजारी जी ने एक न सुनी और उससे कहा अगर दर्शन करना है तो या तो 6 महीने बाद आना या तो यहीं 6 महीने तक रुक जाओ| लेकिन इस ठण्ड और बर्फ में तुम यहाँ एक रात भी नहीं रुक पाओगे, वापस लौट जाओ हम पट नहीं खोल सकते| दोस्तों अगर कोई धनवान व्यक्ति होता तो पट खुल भी सकते थे लेकिन उस निर्धन के लिए कौन पट खोलता| केदारनाथ की बर्फीली ठण्ड में वह आदमी मंदिर के बहार बैठा शिव का स्मरण कर रहा था, रात होते ही ठण्ड और बढ़ गयी और अब उस जगह पर किसी मनुष्य के लिए एक पल ठहरना भी कठिन था, लेकिन वो बैठा रहा|

Read More

Comments (2)

  • user image
    jitender yadav
    May 25, 2018, 6:25:00 PM

    Har har Mahadev

  • user image
    rajveer singh
    May 30, 2018, 6:52:27 AM

    har har mahadev

Leave a comment