Blog Detail

Covid-19 Tracker Ask Question

preview image History
by Samuel Philip, Aug 28, 2020, 7:51:18 AM | 7 minutes |

"मुस्लिम राजपूत" कौन होते हैं? उनका क्या इतिहास है?

'राजपूत' से पहले दो शब्द और समझने की जरूरत है वो है

क्षत्रिय शब्द

ये गुण और कर्म आधारित व्यवस्था थी न की जन्म आधारित व्यवस्था

राजपूत

ये पूरी तरह जन्म आधारित व्यवस्था थी

वैसे ये शब्द का प्रयोग तो लम्बे समय से हो रहा था

भारत में इस्लामिक सत्ता दो हिस्सों में देखी जाती है

सुल्तानों का काल और मुगलों का समय

इन दोनों ही समय में तलवार , लालच , मजबूरी के आधार पर लोगो का धर्म परिवर्तन कराया गया

● ऐसा उत्तर भारत में हरियाणा , राजस्थान , यूपी , राजस्थान , सिंध में राजपूतों का धर्म परिवर्तन हुआ

● होता ये था की इनका धर्म बदलवाने के बाद इनको इनके हाल पर छोड़ देते थे बस अब इन्हें जजिया कर देने से आजदी मिल जाती थी लेकिन अभी भी इनका जीवन पूरी तरह हिन्दू जैसा था क्योंकि इस्लामिक परंपरा ये जानते ही नही थे ऐसे में अपनी वही परंपरा जारी रखते थे ।

ऐसे में इन्होने जाति अपनाये रखी आज भी अपने नाम मे राणा, चौहान, तोमर ऐसे सरनेम लगाते है लेकिन पूरी तरह फारसी और तुर्की नाम भी लिखते है जैसे कुछ नाम आगे देखेगे आप

परंपरा जो शरुआत में चलती रही

जैसे

सती प्रथा मुस्लिमो में हुआ करती थी ये वही थे

● शादी में फेरे लेकर शादी होती थी

● मरने पर शव को जलाते थे

● पुरखों की पूजा

●इनकी महिलाये बुर्का नही पहनती थी

और भी बाकी बाते

सबसे बड़ी बात

आप ने राणा संगा का नाम सुना होगा

राणा संगा ने एक नारा दिया की भारत में भारतीय राज करेगे

इसमें उनकी सेना में मेवात जो हरियाणा में है वहा के राजपूत भी शामिल होते थे एक बड़ा फेमस योद्धा भी था

अब आते है , मुगलों के समय

इसमें बड़ा धर्मपरिवर्तन शाहजाह , जहागीर और औरंगजेब के समय हुआ था

जिनका धर्म बदला गया उनको भी उसी तरह धर्म बदल कर छोड़ दिया

क्यों इन्हें छोड़ दिया जाता था

दरअसल इसका कारण था की धार्मिक कट्टरता के नाते इनको वो मुस्लिम तो बना देते थे लेकिन जैसे ही ये मुस्लिम बनते तो वो इन हिन्दू से मुस्लिम बने लोगो को अपनी हैसियत का नही समझते थे , मतलब दोयम दर्जे का समझते

ऐसे में काफी बार संत और योगी भी बन जाते थे नाथ पंथ में ये लोग काफी जाते थे

● इनका इस्लामीकरण

ये ज्यदा पुराना नही है इन्हें पिछले 150 सालो में ही मुस्लिम बनाया गया है इसका बेहतरीन उदारहण

मेवात है

जो कभी राणा संगा के साथ लड़ते थे , आज वहा हिंदूओ के खिलाफ काम होता है

क्या इनको वापस लाने के प्रयास नही हुए

हुए और सफल भी हुए है

आर्य समाज ने इसमें काफी काम किया यूपी में कानपूर देहात है उसके आसपास सैकड़ो गाव राजपूतो के है ये कभी मुस्लिम बने लेकिन फिर हिन्दू बने ऐसे ही गाजियाबाद , और हरियाणा में हुआ

● लेकिन हिन्दुओ में ही विरोध होने लगा जैसे गाँधी जी ने इस घर वापसी का काफी विरोध किया

काफी सारे आर्य समाजी गुरुओं की हत्या कर दी गयी इस्लामिक कट्टरपंथी द्वारा अब्दुला ने स्वामी श्रधानंद की

अभी भी कहा कहा होते है ?

भारत में विशेष रूप से हरियाणा , यूपी के फतेहपुर में गौतम राजपूत बोलते कानपुर में है , पश्चिमी यूपी , गुजरात , राजस्थान बिहार , बंगाल में

भारत मे ही आराम से 4/5 करोड़ होंगे बड़ी आबादी पाकिस्तान में है ।

कुछ प्रशिद्ध राजपूत मुस्लिम

ये बेनजीर भुट्टो

ये सिंध से आती है अब पकिस्तान में आता है

राजा हसन खान मेवाती

ये राणा संगा के साथ बाबर के खिलाफ लड़ा था

राय भूलर

ये राठी राजपूत था इसने गुरु नानक जी को 18 हजार एकड़ भूमि दान दी थी ,

ईशा खान

ये बंगाल में मुगलों से लड़ाई लड़ी थी

दुलहा भाटी

इसने अकबर से लड़ाई लडी थी

ये तो किसी पहचान की जरूरत नही

● अक्सर सेकुलर गैंग आप को हिन्दू मुस्लिम एकता के नाम पर इनके नाम लेकर आप को मूर्ख बना सकते है , तो उन्हें बताये ये भाईचारा नही बल्कि धार्मिक कट्टरता का उदाहरण है की लोगो को अपने धर्म बदलना पड़ा, वो धर्म परिवर्तन की बात नही बताते

इतिहास में आप को ये देखने को मिलेगा की चाहे महाराणा प्रताप हो या छत्रपति शिवाजी या दूसरे हिन्दू राजा हो इनकी सेना में कुछ मुस्लिम भी होते थे ये वही मुस्लिम राजपूत , जाट , गूजर लोग थे , या फिर अफगानी होते थे मुगलों के समय अधिकतर अफगानी हिन्दू राजाओ के लिए काम करते थे क्योकि उनकी मुगलों से लड़ाई थी, ठीक से देखा जाय तो ये अफगानी 8 -9 शताब्दी में हिन्दू ही थे जयपाल के शासन तक

एक और बात अक्सर सुना होगा की बाबर , अकबर , औरंगजेब हिन्दू राजाओ से जब लड़ाई में हारने लगते तो लड़ाई को जिहाद बोलने लगते थे कारण यही था की ऐसा कर वो इन मुस्लिमो को अपनी तरफ करने की कोशिस करते थे

इसका फायदा अब्दाली और बाबर को साफ़ साफ देखने को मिलता है।

आज के समय

अब तो कट्टरता आ चुकी है मुस्लिम लीग में इन लोगो ने बड़ी भूमिका निभाई बटवारा करवाने में ,कारण वही था इन्हें खुद को बेहतर मुस्लिम साबित करना होता तो कैसे करे ये काम ?

यही तरीका था उनके पास


CREDIT:-


Images :- from Google

Comments (0)

Leave a comment